Assam Chief Minister Tarun Gogoi died at 86 years

Assam Chief Minister Tarun Gogoi passes away at 86yr

अगर आपको politics पसंद है तो आप तरुण गोगोई जी को जरूर जानते होंगे जो असम के मुख्यमंत्री थे तरुण गोगोई की राजनीती की शुरुवात 1971 में पांचवें लोकसभा चुनावों में जोरहट निर्वाचन क्षेत्र से जीत दर्ज करने के साथ हुई उसके बाद इन्होने अपने जीवन में बहुत सी कठिनाइयों का सामना किया और धीरे धीरे करते ये राजनीती में आगे बढ़ने लगे गोहाटी विश्वविद्यालय से एलएलबी की परीक्षा पास की तरुण गोगोई के परिवार में उनकी पत्नी डॉली गोगोई और दो बच्चे भी हैं

लम्बे समय से बीमार चल रहे तरुण गोगोई जी की आज की मृत्यु 86 वर्ष में हो गई तरुण गोगोई कांग्रेस की तरफ से तीन बार असम के मुख्यमंत्री रह चुके है और इन्होने अपनी ज़िन्दगी में काफी मेहनत के बाद मुख्यमंत्री का पद प्राप्त किया था आपको बता दे की तरुण गोगोई पेशे से वकील थे. इन सब के अलावा वह एक शानदार और समझदार नेता भी थे .तरुण गोगोई सभी मुद्दों को बहुत गंभीरता से पूर्ण समर्पित होकर हल करते थे

– हमारे देश के प्रधान मंत्री , मुख्यमंत्री , राष्ट्रपति के साथ साथ बहुत से लोगो  तरुण गोगोई की मृत्यु पर दुःख जाहिर किया है उन्होंने ट्विटर पर ट्वीट के द्वारा अपना दुःख प्रकट किया है किसने क्या बोला है आपको दिखाते है

 

Tarun Gogoi
Tarun Gogoi
Tarun Gogoi
Tarun Gogoi
Tarun Gogoi
Tarun Gogoi

Life introduction of Tarun Gogoi

– तरुण गोगोई जी का जन्म 1 अप्रैल, 1936 को असम के एक छोटे जिले जोरहट एक परिवार में हुआ था तरुण गोगोई जोरहट के सरकारी स्कूल से अपनी पहली शिक्षा शुरू की उसके बाद वो जोरहट के जे.बी. कॉलेज से स्नातक और इसके बाद उन्होंने गोहाटी विश्वविद्यालय से एलएलबी की भी परीक्षा को पास किया था तरुण गोगोई के परिवार में उनकी पत्नी डॉली गोगोई और उनके दो बच्चे भी है

 

The personality of Tarun Gogoi

– तरुण गोगोई एक वकील हैं क्युकी उन्होंने गोहाटी विश्वविद्यालय से एलएलबी की भी परीक्षा को पास किया था इसके अलावा वह एक सुलझे हुए नेता भी थे तरुण गोगोई गंभीर मुद्दों पर सोच समझ कर और लोगो की सलाह पर ही कोई निर्णय लिया करते थे

Tarun Gogoi’s political journey

– तरुण गोगोई वर्ष 1971 में लोकसभा चुनावों में जोरहट से चुनाव लड़ा और वहां पर काफी मेहनत के बाद जीत प्राप्त की पर उसके बाद ये रुके नहीं इसके बाद ये 1976 में वह भारतीय कांग्रेस समिति के संयुक्त सचिव बनाए गए. लगातार इन्होने तीन बार जीत दर्ज की इसके बाद ये 1991 से 1993 तक तरुण गोगोई ने केन्द्रीय खाद मंत्री पैट को संभाला था

– जिसके बाद 1993-1995 तक ये खाद के प्रसंस्करण मंत्री का भी पद इनको दिया गया था क्युकी ये बहुत ही मेहनती वेक्ति थे इसके उपरांत 1996-1998 में गोगोई मारघेरिटा क्षेत्र से विधानसभा के सदस्य भी बनाये गए थे इसके बाद इनकी काफी मेहनत की वजह से इनको 2001 में पहली बार असम के मुख्यमंत्री बनाया गया था

– उसके बाद इन्होने दो बार और मुख्यमंत्री की जीत दर्ज की थी क्युकी इन्होने बहुत ही अच्छा कार्य किया था 2006 और 2011 मे भी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई थी तो ये असम में टोटल तीन बार मुख्यमंत्री बन चुके थे

Achievements of Tarun Gogoi

– तरुण गोगोई ने अपने जीवन में बहुत सी उपलब्धियां प्राप्त की थी उन्ही की प्रयासों की वजह से आज प्रदेश में कानून व्यवस्था दुरुस्त की जा सकी है इनमे उनका बहुत बड़ा योगदान है की आज कानून की वजह से क्राइम काम हो सका है इनको उग्रवादी संगठन के साथ शांति-वार्ता के साथ की पहल करना भी तरुण गोगोई की प्रमुख उपलब्धि में से एक है.तरुण गोगोई देश के विकास और बच्चों की शिक्षा को सबसे ज्यादा मानते है

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top