2lakhCrore Penalty

FDI Accuses Amazon-Flipkart Company Of Violating FDI Rules & Demands 2lakhCrore Penalty

CAIT urges DPIIT to penalize Amazon, Flipkart for 2lakhCrore Penalty

– हम सबको पता है की अगर आपको देश में कोई काम करना है तो आपको सरकार के नियमो का पालन करके चलना होगा नहीं तो आपके साथ सरकार आपको दण्डित करेगी और कैट ने ई-कॉमर्स कंपनियों पर पर नियमो का उल्लंघन करने की वजह से अमेज़न और फ्लिपकार्ट पर जुर्माना लगाने की मांग की है अमेज़न कंपनी पर 1.20 लाख करोड़ और फ्लिपकार्ट कंपनी पर 3.8 लाख करोड़ के जुर्माने की मांग की है

– इसीलिए कैट ने देश भर में इस प्रकार की कंपनियों के खिलाफ 20 नवंबर से 40 दिनों का अभियान शुरू किया है और इसीलिए अगर आपको देश में काम करना है तो कानून के दायरे में रह कर करे किसी भी प्रकार का कानून का उललंघन ना करे

Action sought due to the Foreign Exchange Management Act

– साइट ने दोनों कंपनी के खिलाफ शिकायत दर्ज कर दी है और उसको आंतरिक व्यापार एवं उद्योग संवर्द्धन विभाग (DPIIT) कारवाही की मांग करते हुए उसको वजह भेजा गया है कैट ने विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 के अंतरगर्त विभिन्न नियमों के उल्लंघनों करने की वजह से इस अमेज़न पर फ्लिपकार्ट कंपनी पर आरोप लगाया गया है और इनके खिलाफ दंड और कारवाही की मांग भी के गई है

2lakhCrore Penalty
2lakhCrore Penalty

Controlling Indian companies

– कैट ने कुछ नियम बनाया है जिसकी अगर कोई भी इस नियम को follow नै करता है तो उसके खिलाफ कारवाही की जाएगी ई-कॉमर्स कंपनी के लिए कैट ने कुछ नियन बनाया है जिसमे उन्होंने यह साफ़ साफ़ बताया है की मॉडल के लिए एफडीआई में अनुमति नहीं है पर फिर भी अमेज़न कंपनी के इस नियम को नहीं माना जिसकी वजह से उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग की जा रही है इतना ही नहीं इसके अलावा अमेज़न ने 35,000 करोड़ रुपए का निवेश भारत की ई-कॉमर्स बाजार पर कब्जा करने के लिए किया है जिसकी वजह से जितने भारत के छोटे छोटे व्यापारि है उनके व्यापार पर एक बहुत बड़ा खतरा बन गया है।

Demand for penalty under section 13 of 1999

कैट ने 1999 की धारा 13 के तहत जुर्माना लगाने की मांग की है जो निवेश का तीन गुना 3X होगा अमेज़न पर 1. 2 लाख करोड़ की मांग और फ्लिपकार्ट पर 3.8 लाख करोड़ का जुर्मना लगाने की मांग की है

2lakhCrore Penalty
2lakhCrore Penalty

The loss to small and medium traders

– हम सबको पता है की जब से ये ई-कॉमर्स कंपनी आई है तब से देश के जितने भी छोटे व्यापरी है उनको बहुत ज्यादा नुकशान का सामना करना पड़ता है जिसकी वजह से बहुत से लोग डिप्रेशन में भी चले जाते है पर कुछ कंपनी सरकार के नियम का पालन नहीं करती है जिसकी वजह से वो नुकशान काफी बढ़ जाता है और इसीलिए कैट ने अमेज़न पर 1.20 लाख करोड़ और फ्लिपकार्ट कंपनी पर 3.8 लाख करोड़ के जुर्माने की मांग की है

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top